shayari on maa in hindi

इस दुनिया में माँ एक ऐसा शब्द है जिसकी किसी को कोई परिभाषा देने की जरुरत नहीं है यह एक शब्द ही नहीं एक एहसास भी है सदियों से लेकर आज तक इस शब्द मात्र का ही बहुत आदर किया जा रहा है| आज हम shayari on maa in hindi बात करने जा रहे हैं उस महान शक्तिशाली मां के बारे में जिसने इस पूरी सृष्टि की रचना की है इसको बनाया है इसके बिना सब कुछ अधूरा है कुछ लोग होते है जो अपनी माँ से एक तरफा प्यार करते है जिससे उनके रिश्ते बदल जाते है इसलिए हमने badalte rishte shayari लिखी है

माँ पर कुछ अहम शायरियाँ-shayari on maa in hindia

माँ की आँखों में 

उदास रहने को अच्छा नहीं बताता है
कोई भी जहर को मीठा नहीं बताता है,

 कल अपने आपको देखा था मां की आंखों में,
यह आइना आपको कभी बूढ़ा नहीं बताता है|

udaas rahne ko accha nahi batate hai
koi bhi zehar ko mitha nhi btate hai

kl apne aapko dekha maa ki ankho me,
yeh aaina aapko kabhi budha nahi batata

किसी के द्वारा क्या खूब कहा गया है की एक मां ही होती है जो आपका कभी बुरा नहीं सोच सकती है एक मां ही होती है जो आपका कभी बुरा नहीं चाहती है वह चाहती है कि आप खुश रहें इसी में उसकी खुशी होती है|

देख ले मुंह तेरा काला हो गया
मां ने आंखें खोली उजाला हो गया|

dekh le tera muh kala ho gya
maa ne aankhe kholi ujaala ho gya


इस तरह मेरे गुनाहों को धो देती है
मां बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है
बुलंदियों का बड़े से बड़ा निशान छुआ
उठाया गोद में जब मां ने मुझे तब आसमान छुआ

is tarah mere gunaaho ko dho deti hai
ma bahut gusse me hoti hai tan ro deti hai
bulandiyo ke bade bade se bada nishaan chuaa
utaaya god me jab ma ne muje tab aasmaan chuaayeh bhi padhe


मेरे हिस्से में माँ आयी

मैं घर में सबसे छोटा था,
मेरे हिस्से में मां आई
main ghar mein sabase chhota tha,
mere hisse mein maan aaee

बुलंदी देर तक किस शख्स के हिस्से में रहती है,
बहुत ऊंची इमारत भी हर घड़ी खतरे में रहती है

bulandee der tak kis shakhs ke hisse mein rahatee hai,
bahut oonchee imaarat bhee har ghadee khatare mein rahatee hai

बहुत जी चाहता है कि जहां से हम निकल जाऊ,
तुम्हारी याद भी तो इसी मलबे में रहती है

bahut jee chaahata hai ki jahaan se ham nikal jaoo,
tumhaaree yaad bhee to isee malabe mein rahatee hai

यह ऐसा कर्ज है जो मैं कभी अदा कर ही नहीं सकता मैं,
जब तक घर ना लौटू तब तक मेरी मां सजदे में रहती है

yah aisa karj hai jo main kabhee ada kar hee nahin sakata main,
jab tak ghar na lautoo tab tak meree maan sajade mein rahatee hai

 


मेरी ख्वाईश है…..

मेरी ख्वाहिश है कि मैं फिर से फ़रिश्ता हो जाऊं
मां को इस तरह लिपट जाऊं कि फिर से बच्चा हो जाऊं

कम से कम बच्चों की होठों की हंसी की खातिर,
ऐसी मिट्टी में मिला ना कि खिलौना हो जाऊं

मैंने कल सब चाहतों की किताबें फाड़ द,
सिर्फ एक कागज पर लिखा शब्द मां रहने दिया

meree khvaahish hai ki main phir se farishta ho jaoon
maan ko is tarah lipat jaoon ki phir se bachcha ho jaoon

kam se kam bachchon kee hothon kee hansee kee khaatir
aisee mittee mein mila na ki khilauna ho jaoon

mainne kal sab chaahaton kee kitaaben phaad da,
sirph ek kaagaj par likha shabd maan rahane diya


माँ का प्यार 9 महीने ज़्यदा निकला 

हिसाब लगा कर देख लो दुनिया के हर रिश्ते में कुछ अधूरा आधा निकलेगा,
एक मां का प्यार है जो दूसरों से 9 महीने ज्यादा निकलेगा|

किस्मत में जागना लाई है वह लिखा सफर में है
जब उसका बेटा तो कैसे सो सकेगी मां

hisaab laga kar dekh lo duniya ke har rishte mein kuchh adhoora aadha nikalega,
ek maan ka pyaar hai jo doosaron se 9 maheene jyaada nikalega

kismat mein jaagana laee hai vah likha saphar mein hai
jab usaka beta to kaise so sakegee maan

shayari on maa in hindia इसी तरह की मजेदार दर्द भरी दुख भरी शायरियां जैसे Time Pass Shayari , Jalan Shayari और बहुत सी उपयोगी आर्टिकल्स पढ़ते रहने के लिए हमें फॉलो करें धन्यवाद, अगर आप किसी तरह का कोई सुझाव हमें देना चाहते हो तो कमेंट करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *